Chartered accountant kaise bane in Hindi।CA की सैलरी

how to become a CA in Hindi


CA  या Chartered Accountant एक बहुत ही हाइली paid जॉब है। प्रति वर्ष 4 लाख लोग इस इग्ज़ैम में भाग लेते हैं जिसमें से केवल 1 लाख स्टूडेंट ही प्रवेश परीक्षा को पास कर पाते हैं और CA के कोर्स में प्रवेश पाते हैं।


कुछ बड़ी कम्पनियाँ जैसे BDO इंटर्नैशनल, Earnst एंड यंग, Deloitte इत्यादि, फ़्रेशेर्स और अनुभवी CA's के लिए अलग- अलग पदों पर vacancies निकलती रहती हैं।


CA बनने के लिए स्टूडेंट को CA ka course करना पड़ता है जो की तीन भाग में विभाजित है। जो की CA फ़ाउंडेशन कोर्स, CA इंटर्मीडीयट कोर्स और CA फ़ाइनल कोर्स है।


ये तीन इसके पूरे कोर्स के मुख्य भाग होते हैं जिसे कंडिडेट 12वीं पास करने के बाद किसी भी समय कर सकता है चाहे वो किसी भी स्ट्रीम से हो।



CA कोर्स की औसत फ़ीस 50000 से 4.5L के बीच होती है। यह कोर्स यदि इंडिया के top institute से किया जाए तो इसमें कैंडिडट की लाइफ़ अच्छे तरीक़े से सेट हो जाती है। ये करने के बाद सरकारी और private दोनो ही क्षेत्रों में बहुत सारी नौकरियाँ मिल जाती हैं।


CA clear करने वाले एक fresher candidate की सैलरी 6L से 8 लाख के बीच में होती है।हालाँकि धीरे -धीरे अनुभव बढ़ने के साथ यह सैलरी 30 से 50 लाख प्रतिवर्ष भी हो जाती है।


इस लेख में हम आपको आपको बताने वाले हैं CA के बारे में कैसे आप एक क्वॉलिफाइड CA या chartered अकाउंटेंट बन सकते हैं और  chartered accountant ka kaam kya hota hai.



इसके बाद हम explain करेंगे की chartered accountant course details, syllabus, qualification, best institutes, fees, salary और 12th और graduation के बाद होने वाले कोर्सेज़ के बारे में। इसलिए इस पूरे तथ्य को समझने के लिए आपको पूरा article पढ़ना होगा।




chartered accountant kaise bane in hindi aur ca ki salary aur padhai me aane wale kharch_ca course ki fee




CA kya hota hai। चार्टर्ड अकाउंटंट किसे कहते हैं

आपके दिमाग़ में पहला प्रश्न ये आता होगा कि CA कहते किसे हैं और एक क्वॉलिफाइड या सर्टिफाइड chartered अकाउंटेंट क्या hota है।


अगर देखें तो chartered एकाउंटेंसी और एकाउंटेंसी वैसे same होती है। CA का प्रमुख काम किसी भी व्यक्ति या ऑर्गनाइजेशन की फायनेंस को manage करना होता है इसमें financial statement, बजटिंग, ऑडिटिंग, business स्ट्रैटेजी और टैक्सेशन आता है।


chartered अकाउंटेंट और अकाउंटेंट के बीच में सबसे बड़ा अंतर ये होता है कि chartered एकाउंटेंट कई सालों तक इस फ़ील्ड की training लिया है और बहुत सारे अलग-अलग exam clear किया है तब जाके उसको chartered अकाउंटेंट का पोस्ट मिला है।


हर कोई CA नहीं बन सकता। CA बनना MBA या बैचलर्स degree लेने से बहुत ही अलग होता है।आप सर्टिफाइड chartered एकाउंटेंट तभी बन सकते हैं जब आप (Institute of Chartered Accontant of India) ICAI से रजिस्टर्ड हों।



CA kyu bane। CA क्यू बनें-


CA बनने की प्रक्रिया बहुत कठिन होती है हालाँकि CA एक बहुत ही  ब्राइट करियर choice  है और यह एक स्टेबल नौकरी होती है इसलिए CA करने के सारे लाभ हम नीचे बता रहें हैं- 


CA ki salary।सैलरी -

एक फ़्रेशेर CA की सैलरी औसतन 5 lakh से 8 lakh के बीच में होती है। हालाँकि इस फ़ील्ड में कम करने वाले कैंडिडेट्स थोड़े अनुभव के बाद ऐसे कई इंकम के सोर्स बना लेते हैं और उनकी कमाई, उनके औसत सैलरी पैकिज से बहुत अधिक हो जाता है। यह एक ऐसा फ़ील्ड है जिसका डिमांड आने वाले समय में बढ़ने ही वाली है।



सुरक्षित नौकरी। safe and secure job-

यह धरती पर  सबसे ज़्यादा सुरक्षित करियर विकल्प में से आता है। आने वाले समय में chartered अकाउंटेंट की ज़रूरत बढ़ने ही वाली है क्यूँकि हर chote या बड़े business को CA की ज़रूरत होती है। यह इंडिया और उसके अलावा दुनिया के कई सारे देशों में बहुत ही हाई demanding है।



विदेश में रहने का अवसर। videsh me rehne ka avasar-

अपने देश में chartered एकाउंटेंट्स की बहुत ही High demand है। हम में से बहुत लोग जब बड़े होते हैं तो दिल में एक सपना होता है कि हम विदेश में रहेंगे, तो अगर आपका भी सपना यही था तो यह जॉब आपके लिए perfect है।



ICAI आकड़ों के अनुसार प्रति वर्ष 2 लाख में से 15 % कैंडिडट CA बनकर विदेशों में सेटल हो जाते हैं। इस तरह से अगर आप इंटर्नैशनल स्तर के करियर को खोज रहें हैं तो यह आपके लिए एक बेस्ट विकल्प साबित होगा।

 


क्या आपने यह पढ़ा।must read-







12vin ke bad ca kaise bane।12वीं के बाद ca कैसे बनें-

जो छात्र बारहवी के बाद ये बनना चाहते हैं तो उनको CA और CPT exam पास करना होता है।  यदि कोई CA प्रवेश परीक्षा पास कर लेता है तो उसे ICAI से certificate मिलता है।


यह course तीन चरण में होता है।


  • CPT( Common Proficiency Test)
  • IPCC( Integrated Professional Competency Course)
  • FC ( Final Course)




Graduation ke baad CA kaise bane।ग्रैजूएशन के बाद CA कैसे बने-

अगर आपको देर हो गयी हैं तो कोई बात नहीं आप graduation के  बाद भी सी  के लिए try कर सकते हैं क्योंकि ज़्यादातर candidates ग्रैजूएशन के बाद  ही इसे join करना prefer करते हैं अगर आपकी commerce की degree है तो आप ये course कर सकते हैं क्योंकि graduate students ke लिए CA में direct entry मिलती है।


अगर आप commerce graduate हैं तो आपको सी ए में अड्मिशन के लिए कम से कम 55%  marks होने चाहिए तभी आपको IPCC में entry मिलती है। दूसरी stream के ग्रैजूएट्स के लिए कम से कम 60% marks ग्रैजूएशन में होने चाहिए ।



CA बनने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए:-

CA course का syllabus चार भागों में बँटा होता है-


CA foundation course:-


यह चार महीने का होता है। इसके लिए कैंडिडट को 10 वीं या 12 वीं पास होना अनिवार्य है उसके बाद वे CA सीपीटी इग्ज़ैम में बैठ सकते हैं।



CPT (Common Proficiency Test)

इसमें एक पेपर होता है जो दो भागो में होता है 


भाग- 

Section A: Fundamentals of Accounting- 60 marks

Section B: Mercantile Laws- 40 marks


भाग-

Section C: General Economics- 50 Marks

Section D: Quantitative Aptitude-50 Marks



CA  Intermediate course :

इसको करने में 2.5 se 3 साल का टाइम लगता है। CA फ़ाउंडेशन कोर्स पास करने के बाद कोई भी CA इंटर्मीडीयट कोर्स के लिए अप्लाई कर सकता है।


Phase 1.


Paper 1: Accounting 100 marks

Paper 2: Business laws, Ethics and communication 100 Marks

Paper3: Cost accounting and financial management 100 marks

Paper 4: Taxation (100 Marks)


Phase 2.


Paper 5: Advanced accounting 100 Marks

Paper 6: Auditing and Assurance 100 Marks

Paper 7: IT and strategic management 100 Marks



Phase 3.


Accounting Technician Course

Paper1. Accounting 100 Marks

Paper2: Business laws, Ethics, and Communication 100 marks

Paper3: Cost accounting and Financial management 100 Marks

Paper4: Taxation 100 marks


Phase 4.


CA final course:-

यह 2 साल का होता है। CA intermediate course पूरा होने के बाद आप फ़ाइनल कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हो। इस इग्ज़ैम को देने के लिए CA Intermediate  कोर्स में 40% marks ज़रूरी होते हैं।


Paper 1. Financial reporting (100 marks)

Paper 2. Strategic financial management (100 marks)

Paper 3: Advance auditing and professional Ethics ( 100 marks)

Paper 4: Corporate Allied Laws and Ethics (100 marks)

Paper 5: Advance management Accounting (100 marks) IT ( 100 marks)

Paper6: Informative systems control and audit (100 marks)

Paper 7: Direct tax laws ( 100 Marks)

Paper 8: Indirect tax laws ( 100 marks)




CA कोर्स की फ़ीस कितनी होती है। CA course ki fees kitni hoti hai

कोर्स की फ़ीस बहुत सारे factors पर निर्भर करती है जैसे कि आप किस शहर में रहते हैं या किस institute में पढ़ाई कर रहें हैं। इसलिए इसका कोई nishchit अमाउंट निकलना मुश्किल है। लेकिन हम आपको एक औसत फ़ीस बता सकते हैं।


  • Registration fees- 10k to 15k
  • Article registration fees- 2k to 3k 
  • Orientation course fee- 3k to 5k 
  • IT Training course fee- 4 to 6k 





CA बनने के लिए आवश्यक skill :

  • Analytical skill
  • Excellency in Communication
  • Disciplin in work
  • Business awareness
  • Failure स्वीकार करने की क्षमता।




CA ki 1 mahine ki salary kitni hoti hai

एक फ़्रेशेर CA1 की 1 महीने की औसत सैलरी 50000 रुपए प्रति माह और 6 से 8 लाख रुपए सालाना होती है। एक CA 5 से 10 सालों के अनुभव के बाद  आराम से महीने में 1.5L  से 2L और सालाना 20L से 30 लाख रुपए कमाता है।





CA kitne sal ka course hai। CA कितने साल का कोर्स है

12th के बाद यदि आप सारे पेपर पास करते जाते हैं तो आपको CA बनने। में  4.5 साल लगते हैं।



अंत में-

हम आशा करते हैं की आपको हमारा यह लेख chartered accountant kaise bane in Hindi पसंद आया होगा। यदि आपको लेख पसंद आया तो इसे अपने मित्रों और परिवार के साथ ज़रूर share करें। लेख से सम्बंधित किसी भी प्रकार के डाउट के लिए आप हमें कॉमेंट करके बता सकते हैं। अगर किसी विशेष article के लिए आपकी माँग हो तो उसको भी आप हमें कॉमेंट करके बता सकते हैं। धन्यवाद !






एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ