Digital marketing में कैरियर कैसे बनाएँ।Top 10 best Digital marketing jobs

दुनिया बहुत तेजी से डिजिटल हो रही है और भारत भी पीछे नहीं है। हाल के वर्षों में देश के अधिकांश छोटे और बड़े व्यवसायों ने अपनी मार्केटिंग करने के तरीके को बदल दिया है। यही कारण है कि Digital Marketing के क्षेत्र में नौकरियों की इतनी मांग है। इसलिए आपको यह जानकारी होना ज़रूरी है की डिजिटल मार्केटिंग क्या है? Digital marketing में career कैसे बनाएँ।




पहले कंपनियों के ज्यादातर मार्केटिंग पारंपरिक प्लेटफॉर्म जैसे अखबार, टीवी, रेडियो, एसएमएस आदि के द्वारा किए जाते थे। लेकिन अब ज्यादा से ज्यादा कंपनियां ऑनलाइन होती जा रही हैं जिसकी वजह से  डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में नौकरियों की संभावनाएं बहुत बढ़ गयीं हैं।







TOP 10 BEST DIGITAL MARKETING JOBS








हर कंपनी डिजिटल मार्केटिंग की ताकत का फायदा उठाना चाहती है और ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचना चाहती है।





इसलिए हर company पहले से कहीं अधिक डिजिटल मार्केटिंग अभियान चलाने पर खर्च कर रही हैं। वास्तव में, हर कंपनी में डिजिटल मार्केटिंग विभाग अलग से बनाया गया है।






इस दौर में डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में मिलने वाली सम्भावनाओं की वजह से हम आपको 10 ऐसे पदों के बारे में बताने जा रहें हैं जो आपको आपके career में चार चाँद लगा सकते हैं।





Top 10 best digital marketing jobs:-


भारत में डिजिटल मार्केटिंग की अपार संभावनाएं हैं। भारत में डिजिटल मार्केटिंग में शुरुआती वेतन 15000 रुपये है और यह 5 लाख से 10 लाख तक जा सकता है। डिजिटल मार्केटिंग के नौकरियों में कोई सीधा प्रवेश नहीं है। डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाने के लिए आपको डिजिटल मार्केटिंग कोर्स करना पड़ता है





1. SEO related jobs:-


SEO (Search Engine Optimisation) से संबंधित नौकरियां सबसे आम डिजिटल मार्केटिंग करियर के अवसरों में से एक हैं जो आप कर सकते हैं।




एक बार जब आप किसी प्रतिष्ठित संस्थान से डिजिटल मार्केटिंग में कोर्स पूरा कर लेते हैं तो आप कुछ समय के लिए एक इंटर्न के रूप में शामिल हो सकते हैं।




हालाँकि SEO की जॉब प्रोफाइल बहुत बड़ी  है, लेकिन इसे कम करने के लिए आपको बड़ी websites से backlink लेना पड़ता है जिस से google को आपकी site दिख सके।




जैसे- जैसे  आप ज्ञान प्राप्त करते हैं और एसईओ के विभिन्न पहलुओं को सीखकर अपनी विशेषज्ञता विकसित करते हैं, आपको कंपनी में एक वरिष्ठ SEO executive  स्तर पर पदोन्नत मिलने की बहुत अधिक सम्भावनाएँ होती हैं 




एक SEO Expert का शुरुआती वेतन लगभग 15,000 रुपये – 17,000 रुपये / माह होता है। हालांकि, 2 साल या उससे अधिक के अनुभव के बाद आप आसानी से 45,000/- रुपये से 50,000/- रुपये प्रति माह तक कमा सकते हैं।






यह भी पढ़ें:-










2. सोशल मीडिया जोब्स (Social Media Jobs):-


यदि आप Facebook , Twitter , You Tube और Instagram  जैसे अलग -अलग social media  प्लेटफॉर्म के साथ काम करना पसंद करते हैं तो आप SEO expert  बनने के बजाय सोशल मीडिया विशेषज्ञ बन सकते हैं।



इंटर्नशिप के बाद आप सोशल मीडिया मार्केटर के तौर पर किसी कंपनी से जुड़ सकते हैं। आपकी मुख्य भूमिका विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर paid विज्ञापन चलाने की होगी।




Facebook पर विज्ञापन चलाने के लिए बहुत सारे मार्केटिंग कौशल की आवश्यकता होती है।

एक सोशल मीडिया मैनेजर के रूप में,  आपको  ज्यादातर कंटेंट वाले हिस्से पर काम करना पड़ता है



आपके अनुभव के आधार पर वेतन 13,500 रुपये से 50,000 रुपये प्रति माह के बीच  हो सकता है।







3. SEM/ PPC jobs:-


SEM या Search Engine Marketing, में आपको Google और Bing जैसे सर्च इंजन को टारगेट करना होता  है।




SEM में आप Google Ad word नाम के paid अभियान की सहायता से Google के search engine result पेज पर अपनी site को रैंक करवाते हैं।




Google ऐडवर्ड्स में, आपका मुख्य कार्य ऐसे विज्ञापन बनाने का होता है जो एक निश्चित बजट के भीतर हो और अपना कार्य  सफलतापूर्वक कर सके




Google Ad words के साथ काम करने के लिए आपको काफ़ी अनुभव की आवश्यकता होती है। आपको अपने client के एक निश्चित बजट के भीतर परिणाम देने होते हैं  




इसके साथ ही आपको ads के लिए अच्छे keyword चुन ने पड़ते हैं। ऐसे कीवर्ड चुनने के लिए बहुत अधिक research की आवश्यकता होती है जो बहुत targeted होते हैं लेकिन साथ ही साथ CPC में बहुत कम होते हैं।




PPC की नौकरियां भी AdWords से काफी मिलती-जुलती होती हैं लेकिन यहां पर आपको  Facebook , You Tube  और अन्य प्लेटफॉर्म पर Paid Click Ad. चलाने होते हैं






4. डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर (Digital marketing manager):-


डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर किसी company के डिजिटल मार्केटिंग डिपार्टमेंट की पूरी व्यवस्था देखता है,  साथ ही साथ समय सीमा बनाने और बजट के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार होते हैं। 




एक डिजिटल मार्केटर के रूप में, आप website content से लेकर SEO तक पूरे system को देखते हैं





आप अपनी कंपनी के विभिन्न विभागों जैसे SEO टीम, सोशल मीडिया मार्केटिंग टीम, कंटेंट मार्केटिंग टीम, ईमेल मार्केटर्स आदि को एक साथ हैंडल करते हैं




एक डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर सीधे कंपनी के मार्केटिंग मैनेजमेंट को रिपोर्ट करता है यह company में बहुत ही अच्छी पोस्ट होती है।





डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर बनने से पहले आपको इस इंडस्ट्री में कम से कम 5 से 6 साल का अनुभव होना चाहिए।

एक डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर का औसत वेतन 24 लाख रुपये प्रति वर्ष से अधिक हो सकता है।







5. ब्लॉगर (blogger):-


भारत में डिजिटल मार्केटिंग में करियर बनाने का एक बड़ा फ़ायदा यह है कि आपको 9 से 5 की नौकरी खोजने की ज़रूरत नहीं है। आप हमेशा अपने घर से आराम से अपने दम पर शुरुआत कर सकते हैं।




अगर आपको किसी चीज का शौक है तो आप उस Passion को डिजिटल मार्केटिंग के साथ जोड़ सकते हैं। आप एक डोमेन और होस्टिंग खरीदकर, लेखों और वीडियो के साथ इसे नियमित रूप से अपडेट करके, कुछ एसईओ करके  एक ब्लॉग बना सकते हैं।




ब्लॉग के ज़रिए आप अपनी बातों को लोगों तक पहुँचा सकते हैं। इसमें अच्छे content के साथ- साथ आपको दूसरी अच्छी sites से backlink की भी ज़रूरत होती है।




ब्लॉगिंग से आप  10,000/- रुपये प्रति माह से लेकर 10 लाख रुपये प्रति माह तक कमा सकते हैं। आने वाले समय में  ब्लॉग्गिंग का भविष्य बहुत अच्छा है!






6. Content Writer:-


सच कहूं तो 10 में से 1 ही व्यक्ति  ब्लॉगर के रूप में सफल होता है लेकिन 10 में से 9 कंटेंट राइटर जरूर बन सकते हैं। किसी भी डिजिटल मार्केटिंग को चलाने के लिए अच्छी सामग्री की आवश्यकता होती है। वास्तव में, कांटेंट के बिना प्रभावी सामग्री देना संभव नहीं है।




इसलिए, कंटेंट राइटर डिजिटल मार्केटिंग नौकरियों में बहुत महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं।इसके लिए आपको किसी दिए गए टॉपिक पर अच्छी सामग्री लिखने में सक्षम होना पड़ता है 




आपका काम अपेक्षाकृत सरल है और इसके लिए केवल लेखन कौशल की आवश्यकता होती  है। इसमें आपको मार्केटिंग part के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं होती। आपको बस अच्छा content लिखने की आवश्यकता होती है।





content writers को उनके द्वारा लिखे गए प्रत्येक शब्द के लिए भुगतान किया जाता है। भारत में, content writers को प्रति शब्द के लिए औसतन 0. 30 रुपये से 0.70 रुपये का भुगतान किया जाता है। अच्छे लेखकों को प्रति शब्द 1 रुपये से 2 रुपये तक का भी payment किया जाता है।






7. कापीरायटर (copywriter):-


वैसे तो कॉपी राइटिंग का डिजिटल मार्केटिंग जॉब से कोई लेना-देना नहीं है, लेकिन जब कंटेंट मार्केटिंग की बात आती है तो कॉपीराइटर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।




सामग्री लेखन की तुलना में कॉपी राइटिंग थोड़ी अधिक बारीक है। यहां पर आपको किसी वेबसाइट के लैंडिंग पेज या सेल्स पेज के लिए लिखने को कहा जाएगा।




एक कॉपीराइटर के रूप में, आपकी जिम्मेदारी पाठकों को आपके द्वारा लिखे गए शब्दों के माध्यम से उन्हें आश्वस्त करके ग्राहकों में परिवर्तित करना रहता है।




इसमें प्रत्येक काम के लिए भुगतान प्राप्त करने के बजाय आपको आपके द्वारा बनाए गए प्रत्येक sales page  के लिए भुगतान मिलता है।







8. फ़्रीलैन्सर (Freelancer):-


मेरी राय में, डिजिटल मार्केटिंग नौकरियों का सबसे अच्छा पहलू फ्रीलांसिंग नौकरियां हैं। भारत में एक डिजिटल मार्केटिंग करियर आपके लिए एक फ्रीलांसर के रूप में काम करना संभव बनाता है। फ़्रीलैन्सिंग में-



  • आप किसी के लिए काम नहीं करते।
  • आपका कोई बॉस नहीं है।
  • आप यात्रा नहीं करते हैं।
  • आप अपना समय खुद चुनते हैं





मान लीजिए कि आपके शहर में अभी एक नया रेस्तरां खुला है और उसका मालिक डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से उसका ऑनलाइन प्रचार करवाना चाहता है तो वह किसी एजेंसी की तुलना में आप जैसे फ्रीलांसर को किराए पर लेने की अधिक संभावना रखता है क्योंकि एजेन्सी की तुलना में फ्रीलांसर बहुत सस्ते होते हैं।




आप उनका फेसबुक पेज या ब्लॉग बना सकते हैं और ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए कुछ बैकलिंक्स बना सकते हैं।




आप Upwork या Fiverr जैसी फ्रीलांसिंग साइटों पर क्लाइंट से प्रोजेक्ट भी ले सकते हैं और उन्हें समय पर पूरा कर सकते हैं और उनसे सीधे भुगतान प्राप्त कर सकते हैं।





अधिक customer प्राप्त करने के लिए फ्रीलांसरों को फेसबुक या लिंक्डइन जैसी सोशल मीडिया साइटों के माध्यम से खुद की मार्केटिंग करनी पड़ती है।







9. ऑनलाइन व्यापार (online business):-


अगर आपका पहले से कोई बिजनेस है और उसे आप ऑनलाइन लेना चाहते हैं तो डिजिटल मार्केटिंग उसमें आपकी मदद कर सकती है।




डिजिटल मार्केटिंग में कोर्स पूरा करने के बाद आप अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए उस ज्ञान का use कर सकते हैं।




मान लीजिए कि आप एक Amazon seller हैं और अपने customer base को बढ़ाना चाहते हैं तो आप एक वेबसाइट बना सकते हैं, अच्छी सामग्री अपलोड कर सकते हैं, Google पर उच्च रैंक करने के लिए कुछ एसईओ कर सकते हैं और रोजाना नए ग्राहकों तक पहुंच सकते हैं।




प्रमुख समाचार पत्रों में विज्ञापनों के लिए भुगतान करने या परामर्श के लिए जाने के बजाय आप डिजिटल मार्केटिंग के माध्यम से अपने दम पर लीड उत्पन्न कर सकते हैं।




यह आपको पूरे भारत के छोटे शहरों में ग्राहकों तक पहुंचने में मदद करेगा।







10. Conversion Rate Optimiser:-


Conversion Rate Optimizer (CRO) की भूमिका अधिक लोगों को साइट पर आने और उसके products को खरीदने के दर में वृद्धि करना है।





एक CRO, किसी टूल का उपयोग करके यह पता करता है कि लोग उसकी landing pages पर  कैसे प्रतिक्रिया दे रहे हैं जिस से वह उसमें परिवर्तन करके और भी अच्छे तरीक़े से customers को आकर्षित कर सकता है।





इसमें आप इनबाउंड मार्केटिंग टीम, SEM, सोशल मीडिया मार्केटर, ईमेल मार्केटर आदि जैसे विभिन्न लोगों के साथ काम करेंगे। सीआरओ को वेब एनालिटिक्स वाले की तुलना में अधिक पेमेंट प्राप्त होती है।





अंत में:-


हम आशा करते हैं की आपको हमारा या लेख डिजिटल मार्केटिंग में करियर कैसे बनाएँ? पसंद आया होगा। इसे पढ़ने के बाद आपको यह बात अवश्य समझ में आ गयी होगी की डिजिटल मार्केटिंग में क्या करना होता है, डिजिटल मार्केटिंग में income इत्यादि के बारे में।

अगर आपको लेख से सम्बंधित किसी भी प्रकार का डाउट हो तो आप हमें कॉमेंट के माध्यम से अवश्य बताएँ। लेख से सम्बंधित कोई भी सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण होगा। धन्यवाद !








एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ